Uncategorized

विश्व दूध दिवस, विश्व पर्यावरण दिवस,विश्व योग दिवस

माता – पिता से लेकर शिक्षक तक आपको दूध के महत्व के बारें मे बताते है। दूध हर व्यक्ति के लिए बहुत जरूरी है।दूध से हमारी शरीर को ऊर्जा मिलती है, अक्सर हम सभी दही, दालें का सेवन कर लेते है, लेकिन हमारे लिए क्यों जरूरी है, इस पर ध्यान नही देते।

इसलिए दूध को महत्व को बताने के लिए पहली बार 1 जून, 2001 को विश्व दूध दिवस मनाया गया था। शुरुवात मे इसमें अधिक देश शामिल नहीं थे, लेकिन जैसे – जैसे इसके बारें मे पता चलता गया, वैसे- वैसे अनेक देश इससे जुड़ते गये। सभी लोग दूध और दूध के उत्पादों के महत्व के बारें मे जानें, इसलिए इसे पूरे विश्व में 1 जून को उत्सव की तरह मनाया जाता है। अब तो आप भी विश्व दुग्ध दिवस के बारें मे जान गए। अब आप भी अपने मित्रों को इसके बारें मे बताये और दूध दही खा कर अपने स्वस्थ को मजबूत बनाए।

विश्व पर्यावरण दिवस

पर्यावरण हर प्रणाली के लिए बहुत जरूरी है। यदि पर्यावरण सुरक्षित नही रहेगा तो जन- जीवन असुरक्षित हो जायेगा। पर्यावरण हमारा मित्र है, इसलिए हमें इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए। अपने आसपास के वतावरण को प्रदूसित होने से बचाना चाहिए। इन दिनों पर्यावरण में ध्वनि प्रदूषण, वायु प्रदूषण और भूमि प्रदूषण देखने को मिल रहा है।

योग दिवस

प्रदूसित वतावरण पर्यावरण को नुकसान पहुँचता है। संयुक्त राष्ट्र ने जन- जन को इस और जागरूक करने के लिए ही विश्व स्तर पर पर्यावरण दिवस मनाना शुरू किया। इसकी शुरुआत 1972 में 5 जून से 16 जून तक संयुक्त रास्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण समेलन से हुई।

5 जून, 1973 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस, मनाया गया। तब से हर 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस, मनाया जाता है। स्कूलों मे भी इस दिन शिक्षक स्टूडेंट थीम करने का संकल्प लें। आप भी इस विश्व पर्यावरण दिवस, पर यह प्रण कीजिये की अपने आस- पास पेड़ पौधे और वतावरण को स्वच्छ रखेंगे।

विश्व योग दिवस कब मनाया जाता है?

प्राचीन काल से ही ऋषि मुनियों के बल पर लंबा और स्वस्थ जीवन जी रहे है।योग भारत का एक अनमोल धरोहर है।योग पूरी मानव जाति को स्वस्थ, सुंदर शक्तिशाली और सकरात्मक विचारों से भर सकता है। अब दुनियाँ भर के अनेक देशों और लोगों ने योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बना लिए है।

योग को महत्व को देखते हुए ही संयुक्त राष्ट् संघ ने 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप मे घोषित किया।21 जून वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी मनुष्य को लंबा व स्वस्थ जीवन प्रदान करता है। इसलिए सोच विचार कर 21 जून को ही Yog divas मनाने का निर्णय लिया गया।पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया।

इसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा मे अपने बात रखी थी। विश्व योग दिवस का

Show More

Related Articles

One Comment

  1. It’s actually
    very difficult in this active life to listen news on
    TV, therefore I simply use
    web for that purpose, and take the most up-to-date information.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close