अर्थव्यवस्था करेंट अफेयर्सकरेंट अफेयर्स - मार्च, 2020

23 मार्च 2020 करेंट अफेयर्स Curent Affairs Gk News मुख्य बिंदु

Gk news –

25 मार्च, 2020 को संयुक्त राष्ट्र ने COVID-19 के खिलाफ लड़ने के लिए वैश्विक मानवीय प्रतिक्रिया योजना शुरू की। संयुक्त राष्ट्र ने इस योजना को लागू करने के लिए 2 बिलियन डालर आवंटित किए हैं। यह योजना अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, मध्य पूर्व और एशिया के 51 देशों में शुरू की गई है।

मुख्य बिंदु

यह योजना संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतर्राष्ट्रीय गैर सरकारी संगठनों के साथ सीधे सहयोग से क्रियान्वित की जायेगी। इस योजना के तहत वायरस का परीक्षण करने के लिए आवश्यक चिकित्सा आपूर्ति और प्रयोगशाला उपकरण वितरित किये जायेंगे। इसके अलावा विभिन्न बस्तियों में हाथ धोने के स्टेशनों को स्थापित किया जाएगा। इसके साथ ही सार्वजनिक सूचना अभियान भी शुरू किए जायेंगे। यह अभियान लोगों में जागरूकता पैदा करेंगे।

महत्व

यह योजना उन गरीब देशों के लिए है जिनके पास व्यापक रूप से स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी है। कोरोना वायरस के कारण अब तक लगभग 16,000 लोगों की मौत हो चुकी है, इससे अब तक लगभग 4,00,000 लोग संक्रमित हो चुके हैं।

Gk news-

प्रतियोगी परीक्षाओं की दृष्टि से महत्वपूर्ण 27 मार्च, 2020 के मुख्य समाचार निम्नलिखित हैं :

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY)

  • वित्त मंत्री ने कोरोनोवायरस लॉकडाउन के मद्देनजर गरीबों के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना  के तहत 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की
  • स्वच्छता कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं, डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स के लिए प्रति व्यक्ति 50 लाख रुपये का बीमा कवर की व्यवस्था की गयी
  • 80 करोड़ लोगों को अगले तीन महीने तक हर महीने 5 किलो गेहूं या चावल और 1 किलो पसंदीदा दालें मुफ्त दी जाएंगी
  • महिला जन धन खाता धारकों को अगले तीन महीने के लिए 500 रुपये प्रति माह मिलेंगे
  • मनरेगा मजदूरी 182 रुपये से बढ़कर 202 रुपये की गई
  • वृद्धावस्था पेंशनभोगियों और विधवाओं को अगले तीन महीनों के लिए 1,000 रुपये की अतिरिक्त सहायता राशि प्रदान की जायेगी
  • उज्जवला योजना के लाभार्थियों को अगले  तीन महीने के लिए 8.3 करोड़ बीपीएल परिवारों को मुफ्त सिलेंडर दिया जाएगा
  • दीनदयाल राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत, महिला स्व-सहायता समूहों को 20 लाख रुपये तक के गारंटी-मुक्त ऋण प्रदान किए जाएंगे
  • ईपीएफओ नियमन में संशोधन किया जाएगा ताकि श्रमिक अपने आकस्मिक व्यय के लिए 75% तक राशि प्राप्त कर सकें
  • प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत अप्रैल के पहले सप्ताह में किसानों को 2,000 रुपये की किश्त प्रदान की जायेगी
  • राज्य सरकारों को निर्माण श्रमिकों को राहत प्रदान करने के लिए भवन और निर्माण श्रमिक कल्याण कोष का उपयोग करने का निर्देश दिया गया है

राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

  • कोरोनावायरस: NBT ने अपनी #StayHomeIndiaWithBooks पहल के तहत 21-दिवसीय लॉकडाउन के दौरान मुफ्त डाउनलोड के लिए 100 पुस्तकें उपलब्ध करवाई
  • “आन”, “बरसात” और “दीदार” जैसी हिंदी फिल्मों के लिए जानी जाने वाली अभिनेत्री निम्मी का 88 वर्ष की उम्र में निधन हुआ

आर्थिक करेंट अफेयर्स

  • बीएसई सेंसेक्स 1410.99 अंक की बढ़त के साथ 29,946.77 पर बंद हुआ
  • एनएसई निफ्टी 335.70 अंक चढ़कर 8,653.55 पर बंद हुआ
  • CRISIL ने भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए 2020-21 के लिए अपने विकास के अनुमान में कटौती की, विकास दर के अनुमान को 5.2% से 3.5% किया गया है

अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

  • COVID-19 महामारी के प्रकोप से उत्पन्न चुनौतियों पर चर्चा के लिए वर्चुअल G20 लीडर्स समिट का आयोजन किया गया; सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की अध्यक्षता!

27 मार्च को विश्व रंगमंच दिवस (World Theatre Day) मनाया जाता है। इस अवसर पर विभिन्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय थियेटर का आयोजन किया जाता है। 1961 में अंतर्राष्ट्रीय रंगमंच संस्थान आईटीआई द्वारा विश्व रंगमंच दिवस की शुरुआत की गई थी। इस तरह दिनोंदिन मर रही इस विधा को जिंदा रखने की एक कोशिश की जा रही है। इस दिन किसी प्रसिद्ध थिअटर पर्सनैलिटी द्वारा रंगमंच की मौजूदा स्थिति पर विचार व्यक्त करते हुए संदेश भी दिए जाते हैं।

पृष्ठभूमि

1962 में पहला विश्व थिएटर दिवस संदेश जीन कोक्टयू द्वारा लिखा गया था। साल 2002 में यह संदेश भारत के सबसे प्रसिद्ध थिअटर पर्सनैलिटी गिरीश कर्नाड ने दिया। कला की ये ऐसी विधा है जिसने समय के साथ खुद को काफी बदला और हमेशा ही समाज का मनोरंजन करने के साथ ही उसे शिक्षित करने का काम भी किया है। डिजिटल युग में इसे समाज में अपना वह स्थान नहीं मिल पा रहा है।
प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार व नाटककार भारतेन्दु हरिश्चंद्र के नाटकों एवं मंडली द्वारा देशप्रेम और नवजागरण फैलाने का अहम कार्य किया गया, जिसे कई कला प्रेमी आज भी आगे ले जा रहे हैं। भारतेन्दुजी की कृति ‘अंधेर नगरी’, मोहन राकेश का ‘आषाढ़ का एक दिन’ और धर्मवीर भारती का ‘अंधायुग’ जैसे नाटकों का मंचन आज भी श्रेष्ठ माना जाता है। भारत में नाटकों की शुरुआत नील दर्पण, चाकर दर्पण, गायकवाड और गजानंद एंड द प्रिंस नाटकों के साथ हुई थी।

26 मार्च, 2020 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना लांच की। यह योजना देश के लोगों के लिए COVID-19 और इसके प्रभावों से लड़ने के लिए एक आर्थिक मदद पैकेज है। इस पैकेज के तहत लगभग 1.7 लाख करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना

इस योजना के तहत लगभग 80 करोड़ लोगों को अगले तीन महीनों के लिए 5 किलो मुफ्त चावल और गेहूं प्रदान किया जाएगा। यह पहले से ही आवंटित 5 किलोग्राम चावल और गेहूं के अतिरिक्त है। इसके साथ ही प्रति परिवार 1 किलो दाल भी मुफ्त दी जायेगी।

इसके अलावा डॉक्टरों, स्वच्छता कर्मचारियों, नर्स, पैरामेडिक्स और वायरस के खिलाफ लड़ाई में फ्रंट लाइन पर काम करने वाले अन्य कर्मचारियों के लिए बीमा कवर प्रदान किया जाएगा।

इसके अतिरिक्त वृद्धावस्था, दिव्यांग और पेंशनभोगियों को 1000 रुपये का डायरेक्ट बेनिफिट ट्रान्सफर मिलेगा। इससे 3 करोड़ लोगों को फायदा होगा।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना – gk news

इस योजना के तहत मुफ्त सिलेंडर दिया जायेंगे। इससे गरीबी रेखा से नीचे के लगभग 8.3 करोड़ परिवारों को फायदा होगा।

मनरेगा

इस आर्थिक पैकेज में मनरेगा की दैनिक मजदूरी को 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये कर दिया गया है। इससे 5 करोड़ श्रमिकों को लाभ मिलेगा।

लॉक डाउन के दौरान, जब लोगों को घर के अंदर रहना होता है, तो श्रमिक मनरेगा योजना के तहत काम नहीं कर पाएंगे। फिर इसमें मनरेगा क्यों शामिल है? यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि भारत सरकार ने अब मनरेगा योजना के तहत स्वच्छता कर्मचारियों को शामिल किया है। और स्वच्छता कर्मचारियों को पूरे समय काम करना है और उनका वेतन भी दोगुना कर दिया गया है। साथ ही, उन्हें तीन महीने की अवधि के लिए 2000 रुपये के अतिरिक्त भत्ते भी मिलेंगे। मनरेगा के तहत सफाई कर्मचारियों का स्वच्छ भारत अभियान के दूसरे चरण की शुरुआत के साथ हो जोड़ा गया था।

प्रधानमंत्री जन धन योजना

इस योजना के तहत, महिला खाताधारकों को अगले तीन महीनों के लिए प्रति माह 500 रुपये मिलेंगे। इस कदम से लगभग 20 करोड़ खाताधारकों को लाभ मिलेगा।

फीफा (Federation Internationale de Football Association) ने अपने अभियान के लिए 28 अन्य सितारों के साथ भारतीय  फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री को चुना है। इस अभियान तहत COVID-19 का मुकाबला किया जाएगा।

मुख्य बिंदु- gk news

फीफा ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जागरूकता अभियान शुरू करने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ हाथ मिलाया है। इस अभियान के द्वारा विश्व भर के लोगों को बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए एकजुट किया जाएगा।

अभियान

इस अभियान का नाम “Pass the message to kick out Corona Virus” है। इस अभियान में पांच प्रमुख चरणों का प्रसार किया जाएगा जो विश्व स्वास्थ्य संगठन के मार्गदर्शन के अनुरूप हैं। इसमें हाथ धोना, चेहरे को न छूना, खांसी शिष्टाचार, शारीरिक दूरी और घर रहना शामिल है।इस अभियान को 13 विभिन्न भाषाओं में वीडियो प्रारूप में चलाया जायेगा। सुनील के अलावा इसमें  लियोनेल मेसी, कैसिलास, फिलिप लाहम और कैल्स पुयोल जैसे खिलाड़ी शामिल हैं।

भारत सरकार के विज्ञान व प्रौद्योगिकी विभाग के अधीन कार्यरत इंटरनेशनल एडवांस्ड सेंटर फ़ॉर पाउडर मेटलर्जी एंड न्यू मैटेरियल्स (ARCI) ने आंतरिक दहन इंजनों (Internal Combustion Engine) की ईंधन दक्षता में सुधार करने के लिए एक तकनीक विकसित की है।

मुख्य बिंदु gk news

यह तकनीक इंजनों में घर्षण को कम करके ईंधन दक्षता में सुधार करती है। यह कार्य लेजर सरफेस माइक्रो-टेक्सचरिंग द्वारा किया जाता है। इस तकनीक में सूक्ष्म-सतह बनावट की आकृति, घनत्व और आकार को नियंत्रित करके घर्षण को नियंत्रित किया जाता है।

यह बनावट आंतरिक दहन इंजन के घटकों जैसे सिलेंडर लाइनर और पिस्टन रिंग पर बनाई गई है। इस मॉडल को ARCI लैब में अलग-अलग गति, लुब्रिकेशन आयल और कूलैंट के विभिन्न तापमान पर भी टेस्ट किया गया है।

मानव संसाधन और विकास मंत्रालय के तहत कार्यरत नेशनल बुक ट्रस्ट ने “स्टे होम इंडिया विद बुक्स” पहल लांच की। इस पहल के तहत 100 से अधिक किताबें एनबीटी की वेबसाइट से डाउनलोड की जा सकती हैं।

मुख्य बिंदु – Gk news

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए भारत सरकार द्वारा लॉक डाउन घोषित किया गया है। इस परिस्थिति को मध्यनजर रखते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने लोगों को छुट्टियों के दौरान गुणवत्ता समय बिताने में मदद करने के लिए NBT की वेबसाइट पर 100 से अधिक पुस्तकें अपलोड की हैं। मंत्रालय के अनुसार अपलोड की गई अधिकांश पुस्तकें बच्चों की पुस्तकें हैं। इनके अलावा, अन्य पुस्तकों में गतिविधि-आधारित शिक्षण विज्ञान, भारत में महिला वैज्ञानिक, गांधी: वॉरियर ऑफ नॉन-वॉयलेंस और कई अन्य पुस्तकें शामिल हैं।

अपलोड की गई पुस्तकें विभिन्न भारतीय भाषाओं की हैं। इसमें अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, गुजराती, तेलुगु, कोकबोरोक, बोडो, मिजो, तमिल, नेपाली, कन्नड़, उर्दू, मलयालम, तेलुगु, आदि शामिल हैं।

नेशनल बुक ट्रस्ट (NBT)

नेशनल बुक ट्रस्ट की स्थापना सरकार ने 1957 में की गयी थी। यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन उच्च शिक्षा विभाग के तहत कार्य करती है।

NBT के उद्देश्य – Gk news

  • हिंदी,अंग्रेजी तथा अन्य भारतीय भाषाओँ में अच्छे साहित्य के उत्पादन को बढ़ावा देना।
  • साहित्य को कम दरों पर लोगों को उपलब्ध करवाना।
  • पुस्तक मेले तथा प्रदर्शनियों का आयोजन करना।
  • लोगों में पुस्तकों के प्रति रुचि उत्पन्न करना।

उपर्युक्त उद्देश्यों की पूर्ती के लिए नेशनल बुक ट्रस्ट शास्त्रीय भारतीय साहित्य का प्रकाशन करता है। यह भारतीय लेखकों की उत्कृष्ठ रचनाओं को दूसरी भाषाओँ में भी प्रकाशित करता है। यह विदेशी भाषाओँ की पुस्तकों का अनुवादन भी करता है।

भारत सरकार ने दो चरणों में जनगणना करने की योजना बनाई थी। पहला चरण अप्रैल-सितंबर, 2020 के बीच निर्धारित किया गया था और दूसरा चरण फरवरी 2021 में निर्धारित किया गया था। इसके अलावा कोरोना वायरस के प्रसार के कारण एनपीआर का अपडेशन भी स्थगित कर दिया गया है।

राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR – National Population Register)

NPR अपडेशन को जनगणना 2021 के साथ आयोजित किया जाना था। इसे गृह मंत्रालय के अधीन भारत के रजिस्ट्रार जनरल के कार्यालय द्वारा संचालित किया जायेगा। असम एकमात्र राज्य था जिसे एनपीआर प्रक्रिया से बाहर रखा जाना था क्योंकि असम राज्य के रजिस्टर का अपडेशन नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स के तहत किया गया था।

पृष्ठभूमि

next Article Sanjay Dutt Life style

एनपीआर के लिए डाटा पहली बार 2010 में जनगणना https://filmitopnews.com/2020/07/30/sanjay-dutt-biography-book/

2011 के साथ एकत्र किया गया था। इस डाटा को 2015 में एक डोर-टू-डोर सर्वेक्षण के तहत अपडेट किया गया था। एनपीआर बायोमेट्रिक और जनसांख्यिकीय डाटा एकत्र करता है। आधार डिटेल के माध्यम से बायोमेट्रिक डाटा को अपडेट किया जायेगा।

यह पहली बार है जब एनपीआर बायोमेट्रिक डाटा एकत्रित कर रहा है। इससे पहले 2010 में, केवल जनसांख्यिकीय विवरण एकत्र किए गए थे। बाद में 2015 में डाटा को आधार, राशन कार्ड नंबर और मोबाइल नंबर के साथ अपडेट किया गया था। Gk news

Tags
Show More

Related Articles

2 Comments

  1. Nice blog here! Also your website loads up very fast!

    What web host are you using? Can I get your affiliate link
    to your host?
    I wish my site loaded up as quickly as
    yours lol

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close